हम उबलते हैं तो भूचाल उबल जाते हैं; हम मचलते हैं तो तूफ़ान मचल जाते हैं; हमें बदलने की कोशिश करनी है ऐ दोस्तों; क्योंकि हम बदलते हैं तो इतिहास बदल जाते है।

शायर-ए-फ़ितरत हूँ मैं जब फ़िक्र फ़र्माता हूँ
तो रूह बन कर ज़र्रे-ज़र्रे में समा जाता हूँ
आ कि तुझ बिन इस तरह ऐ दोस्त घबराता हूँ
जैसे हर शै में किसी शै की कमी पाता हूँ

Pyar jab milta nahi toh hota hi kyun hain
Agar khwab such nahi hote to insaan sota kyu hai
Jb yahi pyar aankho ke samne kisi or ka ho jaye
Toh phir yeh pagal dil itnaa rotaa kyun hain

ख़ामोशी बहुत कुछ कहती हे
कान लगाकर नहीं दिल लगाकर सुनो

और भी बनती लकीरें दर्द की शुकर है खुदा तेरा जो हाथ छोटे दिए !!

शेरों को कहना नया शिकारी आया हैं,
या तो हुकूमत छोड़ दे या जीना..

यूँ ही रूठे रहना तुम हम से
कसम से तुम रूठे हुये भी अच्छे लगते हो...

एक नींद है जो रात भर नहीं आती
और एक नसीब है जो ना जाने कब से सो रहा

बताऊँ तुम्हे एक निशानी उदास लोगों की
कभी गौर करना ये हँसते बहुत है

वो आँखें झुक गयीं मुझे देख कर,
यकीनन उसने कभी मुझे चाहा तो ज़रूर होगा!

तुम सो जाओ अपनी दुनिया में आराम से,
मेरा अभी इस रात से कुछ हिसाब बाकी है.!!

दिल्लगी कर जिंदगी से दिल लगा के चल
जिंदगी है थोड़ी थोडा मुस्कुरा के चल

हम नाजुक है पानी के बुलबुले जैसे
जरा नज़र अंदाज़ करोगे तो ढूंढते रह जाओगे

शहर ज़ालिमों का है ज़रा संभल कर चलना; लोग दिल ही निकाल लेते हैं सीने से लगा कर।

अगर मालूम होता की इतना तड़पाता है इश्क,
तो दिल जोड़ने से पहले हाथ जोड़ लेते।