खूबसूरत आँखें तेरी; रात को जागना छोड़ दे; खुद बा खुद नींद आ जायेगी; तुम मुझे सोचना छोड़ दे। शुभरात्रि!

रात को रात का तोहफा नहीं देते; फूल को फूल का तोहफा नहीं देते; देने को तो हम चाँद भी आपको दे सकते थे लेकिन; चाँद को चाँद का तोहफा नहीं देते। शुभ रात्रि!

चाँद ने कर दिया है तारों को Invite; सूरज ने पकड़ ली है सुबह की Flight; भगवान को याद कर लो और बंद कर दो Light; मेरी तरफ से आपको एक प्यारा सा Good Night! शुभ रात्रि!

गहरी थी रात लेकिन हम खोए नहीं; दर्द बहुत था दिल में पर हम रोए नहीं; कोई नहीं हमारा जो पूछे हमसे; जाग रहे हो किसी के लिए या किसी के लिए सोए नहीं। शुभ रात्रि!

एक दिन हम सब एक दूसरे को सिर्फ यह सोचकर खो देंगे कि जब वो मुझे याद नहीं करते तो मैं क्यों करूँ? शुभ रात्रि।

अगर तुम एक पेंसिल बनकर किसी की खुशियाँ नहीं लिख सकते हो; तो कोशिश करो कि एक रबड़ बन के किसी के गम को मिटा दो। शुभ रात्रि!

सोने वाले सो जाते हैं; और किस्मत के मारे सोने की आस में; बस तड़पते ही रह जाते हैं; कारण पूछो तो सब दिल की बीमारी ही बताते हैं। शुभरात्रि!

सोते हुए को जगायेंगे हम; आपकी नींद को चुरायेंगे हम; हर वक्त SMS कर सतायेंगे हम; आपको आयेगा गुस्सा लेकिन; उस गुस्से में ही याद तो आयेंगे हम। शुभ रात्रि!

सपने वह नहीं होते जो हम सोते वक्त देखते हैं; बल्कि सपने वो होते हैं जो हमें सोने नहीं देते। शुभ रात्रि!

दिन भर की थकान अब मिटा लीजिये; हो चुकी है रात रोशनी बुझा लीजिये; एक खूबसूरत ख्वाब राह देख रहा है आपकी; बस पलकों का पर्दा गिरा लीजिये। गुड नाईट!

अँधेरी सड़क सुनसान कब्रिस्तान; सूनी हवेली काला आसमान बिजली कड़की आया तुफान; रात हो गई सो जा शैतान! शुभ रात्रि!

छोड़ देंगे एक दिन तुमसे मोहब्बत करना यह वादा है मेरा; ज़रा ज़िंदगी का सांसों से रिश्ता तो टूटने दे। शुभ रात्रि!

ईश्वर का संदेश: तुम सोने से पहले सबको माफ़ कर दिया करो; तुम्हारे जागने से पहले मैं तुम्हें माफ़ कर दूंगा। शुभ रात्रि।

दूर रहते हैं मगर दिल से दुआ करते हैं हम; प्यार का फ़र्ज़ दिल से अदा करते हैं हम; आपकी याद सदा साथ रखते हैं हम; दिन हो या रात आपको ही याद करते हैं हम। शुभ रात्रि!

दिल में प्यारी सी मुस्कान बनाए रखना; कुछ ना हो तो भी यादों को सजाये रखना; चाहे ना हों मुलाकातों के सिलसिले; तो भी ये खूबसूरत दोस्ती बनाए रखना। शुभ रात्रि।