आपके बिछड़ने का गम हम चुपचाप सह लेंगे; आपकी जगह मेरे दिल में नहीं मेरी सांसो में है; खुदा जाने हमें नींद आएगी या नहीं; पर आप चैन से सो जाएं इसलिए आपको शुभ-रात्रि कहते हैं। शुभ रात्रि!

रात जब किसी की याद सताए; हवा जब बालों को सहलाये; कर लो आँखे बंद और सो जाओ; क्या पता जिस का है ख्याल वो आँखों में आ जाये। शुभरात्रि!

हो मुबारक आपको यह सुहानी रात; मिले ख्वाबों में भी खुदा का साथ; खुले जब आपकी मदहोश आँखें; तो ढेरों खुशियाँ हो आपके साथ। शुभ रात्रि!

प्यारे से दोस्त को सलाम हमारा; दिन कैसा रहा ये सवाल हमारा; कल फिर SMS भेजेंगे ये वादा हमारा; पर अभी गुड नाईट का प्यार सा पैगाम हमारा। शुभ रात्रि!

नहीं पता कौन सी बात आखिरी हो; ना जाने कौन सी मुलाक़ात आखिरी हो; याद करके इसलिए सोते हैं सब को; ना जाने ज़िन्दगी में कौन सी रात आखिरी हो। शुभ रात्रि!

वो सो जाता है अक्सर हमें याद किये बगैर; हमें नींद नहीं आती उनसे बात किये बगैर; कसूर उनका नहीं कसूर तो हमारा है; उन्हें चाहा भी तो उनकी इज़ाज़त लिए बगैर। गुड नाईट!

फूलों की तरह महकते रहो; सितारों की तरह चमकते रहो; किस्मत से मिली है ये ज़िंदगी; खुद भी हँसो और औरों को भी हँसाते रहो। शुभ रात्रि!

क्यों किसी के ख्यालों में खोया जाए; क्यों किसी की यादों में रोया जाए; इस दुनिया के झमेले में पड़ना है बेकार यारों; चलो जी भर के सोया जाए। गुड नाईट!

चाँद का कलर है वाइट; रात को चमकता है ब्राइट; हमको देता है मस्त लाइट; कैसे मैं सूओं बिना कहे गुड नाईट ।

चाँद के लिए सितारे अनेक हैं; लेकिन सितारों के लिए चाँद एक है; आपके लिए तो हज़ारों होंगे; लेकिन हमारे लिए आप ही एक हैं! शुभ रात्रि!

रात का चाँद आपको सलाम करे; परियों की आवाज़ आपको आदाब करे; सारी दुनिया को ख़ुश रखने वाला वो रब; हर पल आपकी खुशियों का ख्याल करे। गुड नाईट!

जीवन के हर मोड़ पर सुनहरी यादों को रहने दो; ज़ुबान पर हर वक्त मिठास को रहने दो; यही अंदाज है जीने का कि ना रहो उदास और ना किसी को रहनो दो। शुभ रात्रि!

आज फिर सोने लगे तो तुम याद आ गए; ना जाने तुम मेरी नींद हो या दिल की धड़कन। शुभ रात्रि!

तेरी पलकों में रहना है; रात भर के लिए जानेमन; मैं तो एक ख्वाब हूँ; सुबह होते ही चला जाऊँगा! शुभरात्रि!

लोग कहते हैं रातों को सोकर सुकून मिलता है; हम वो वक़्त भी किसी की यादों में बिता देते हैं। शुभ रात्रि!