भरी जेब ने दुनिया की पहचान करवाई और खाली जेब ने इंसानो की।

खाया पिया-अंग लगेगा; दान किया-संग चलेगा; बाकी बचा-जंग लगेगा।

बुरी संगत उस कोयले के समान है जो गर्म हो तो हाथ जला देती है और ठंडा हो तो काला कर देती है।

समझदारी इसी में है कि कभी भी उस व्यक्ति पर पूरा भरोसा मत कीजिये जिससे आप एक बार धोखा खा चुके हों।

जो व्यक्ति मेरे बुरे वक्त में मेरे साथ हैं
उनके लिऐ मेरे पास एक ही शब्द है
मेरा अच्छा वक्त सिर्फ तुम्हारे लिऐ होगा

अकसर सुना जाता है कि
अब दुनिया बदल गई है ...
क्या बदला है जमाने में ?
मिरची ने अपनी तीखाश
नहीं बदली,
आम ने अपनी मिठास
नहीं बदली,
पत्तों ने अपना हरा रंग
नहीं बदला,
बदलीं हैं तो इंसानो ने अपनी इंसानियत
और दोष देता हैं, पूरी दुनिया को ... !

इंसान खुद की नज़र में सही होना चाहिए दुनिया तो भगवान से भी दुखी है।

डाली पर बैठे हुए परिंदे को मालूम है कि डाली कमज़ोर है; फिर भी वो उस डाली पर बैठता है; क्योंकि उसको डाली से ज्यादा अपने पंख पर भरोसा है!

बुद्धिमान व्यक्ति उस समय सीखते हैं जब वे ऐसा कर सकते हैं लेकिन मूर्ख व्यक्ति उस समय सीखते हैं जब उनके लिए ऐसा करना बहुत जरुरी हो जाता है।

दिल और दिमाग के बीच के टकराव में हमेशा दिल की सुनो।

एक मोमबत्ती दूसरी मोमबत्ती को जला कर अपना कुछ नहीं खोती।

भूखा पेट खाली जेब और झूठा प्रेम इंसान को बहुत कुछ सिखा जाता है।

कोई भी इच्छा कभी भी अधूरी नहीं रहती वह कभी न कभी पूरी होती जरुर है।

दुनिया बड़ी भुलक्कड़ है वह तो उतना ही याद रखती है जितने से उसका स्वार्थ होता है।

पापी चाहे कितनी भी चतुराई से पाप करे लेकिन अंत में पापी को दण्ड भुगतना ही पड़ता है।